सीमावर्ती जिले में बढ़ा पाकिस्तान से आए इन दलों का आतंक- जानिए पूरी खबर

जैसलमेर/पोकरण. क्षेत्र में गत पांच दिनों से चल रहा टिड्डी दल का प्रकोप जारी रहा। हालांकि टिड्डी प्रतिरक्षा एवं नियंत्रण विभाग व कृषि विभाग की ओर से टिड्डी दल के नियंत्रण के दावे किए जा रहे है, लेकिन रविवार को लोहारकी ग्राम पंचायत के आसपास मंगलियों की ढाणी व फिल्ड फायरिंग रेंज के किनारे कैर की झाडिय़ों पर टिड्डियों के झुण्ड देखे गए। गौरतलब हैै कि रामदेवरा, लोहारकी, मावा, सादा, राठौड़ा, मंगलियों की ढाणी, कुम्हारों की ढाणी, काहला, जाजकी, पोकरण फिल्ड फायरिंग रेंज के आसपास गत पांच दिनों से बड़ी संख्या में टिड्डी दल फैला हुआ है। जिसको लेकर कृषि विभाग व टिड्डी प्रतिरक्षा एवं नियंत्रण विभाग की ओर से छिडक़ाव कर टिड्डी को खत्म करने के प्रयास भी किए गए। जबकि किसानों ने बताया कि टिड्डी दल अभी तक पूरी तरह से साफ नहीं हुआ है। रविवार को सुबह बड़ी संख्या में टिड्डियां उड़ती हुई देखी गई तथा दोपहर बाद कई झाडिय़ों पर टिड्डियों के झुण्ड देखे गए। सहायक कृषि अधिकारी मदनसिंह चंपावत ने बताया कि गत पांच दिनों से लगातार छिडक़ाव के कारण इस क्षेत्र में टिड्डी दल पर लगभग नियंत्रण कर लिया गया है। बावजूद इसके कहीं-कहीं झाडिय़ों पर छुटपुट टिड्डियां हो सकती है। जिसको लेकर सोमवार को पुन: छिडक़ाव कार्य शुरू किया जाएगा। उन्होंने बताया कि पोकरण फिल्ड फायरिंग रेंज में भी टिड्डी दल होने की सूचना मिली है, लेकिन फायरिंग रेंज प्रतिबंधित क्षेत्र होने के कारण प्रवेश वर्जित है। ऐसे में सोमवार को आर्मी अधिकारियों से स्वीकृति लेकर रेंज में कीटनाशक का छिडक़ाव किया जाएगा। इसी प्रकार उन्होंने बताया कि फिल्ड फायरिंग रेंज व आसपास क्षेत्र में गोडावण व अन्य वन्यजीव होने के कारण छिडक़ाव करने में परेशानी हो रही है। इसके लिए वन विभाग के कार्मिकों को भी सूचना देकर व उन्हें साथ लेकर छिडक़ाव की कार्रवाई की जाएगी।
नए टिड्डी दलों ने भी किया प्रवेश
उन्होंने बताया कि पाकिस्तान की तरफ से नए टिड्डी दल भारत में प्रवेश करने की भी सूचना मिली है। नहरी क्षेत्र मोहनगढ़ की तरफ टिड्डी प्रतिरक्षा एवं नियंत्रण दल व कृषि विभाग के दल मौके पर पहुंच चुके है, जो उन्हें रोकने के लिए कार्रवाई कर रहे है। हवा के साथ पोकरण क्षेत्र में प्रवेश करने की आशंका को देखते हुए विभाग की ओर से भी एहतियात के तौर पर सभी तैयारियां पूरी कर ली गई है। इस क्षेत्र में प्रवेश करने की स्थिति में उन पर नियंत्रण को लेकर तत्काल कार्रवाई की जाएगी।