भारत को हरा न्यूजीलैंड के हौसले बुलंद, छुपा रुस्तम का ठप्पा हटा पाएंगे कीवी

बेहद सक्षम टीम के साथ उतर रहा न्यूजीलैंड वर्ल्ड कप-2019 में ‘छुपा रुस्तम’ के ठप्पे को पीछे छोड़ने का प्रयास करेगा, जो लंबे समय से उसके साथ जुड़ा हुआ है. अभ्यास मैच में भारत को 6 विकेट से हराने वाला न्यूजीलैंड साढ़े चार दशक के प्रयास के बाद अंतत: विश्व को जीतने की अपनी संभावनाओं को लेकर आश्वस्त है. न्यूजीलैंड की टीम अपना वर्ल्ड कप अभियान 1 जून को कार्डिफ में शुरू करेगी, जहां उसका मुकाबला श्रीलंका से होगा.
गेंदबाजी में विविधता और मजबूत बल्लेबाजी के साथ टीम एक बार फिर इस प्रतिष्ठित टूर्नामेंट में मजबूत दावेदार के रूप मे उतरेगी. न्यूजीलैंड ने छह बार सेमीफाइनल में जगह बनाई है और चार साल पहले अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए टीम फाइनल में पहुंची थी और अब टीम की नजरें खिताब जीतने पर हैं.
न्यूजीलैंड की वर्ल्ड कप टीम में शामिल अधिकांश खिलाड़ी आईपीएल में खेले, जिससे 50 ओवरों के प्रारूप में तैयारी का सीमित मौका मिला. लेकिन इंग्लैंड के हालात और बल्लेबाजी की अनुकूल परिस्थितियों से टीम को मदद मिलने की उम्मीद है.
न्यूजीलैंड ने वर्ल्ड कप-2015 में ब्रैंडन मैक्कुलम की अगुवाई में आक्रामक बल्लेबाजी की बदौलत अपनी सहमेजबानी में हुए टूर्नामेंट के फाइनल में जगह बनाई, लेकिन खिताबी मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया से हार गया. मैक्कुलम काफी पहले संन्यास ले चुके हैं लेकिन गैरी स्टीड के मार्गदर्शन में खेल रही टीम के पास शीर्ष क्रम में कप्तान केन विलियमसन, अनुभवी रॉस टेलर और मार्टिन गप्टिल के रूप में उम्दा बल्लेबाज हैं.
टेलर अपने चौथे जबकि विलियमसन, ट्रेंट बोल्ट और टिम साउदी जैसे खिलाड़ी अपने तीसरे वर्ल्ड कप में हिस्सा ले रहे हैं. हाल के वर्षों में बेहतरीन प्रदर्शन करने वाले विलियमसन के एंकर की भूमिका निभाने की उम्मीद है. टेलर डिफेंस के अलावा आक्रामक बल्लेबाजी कर सकते हैं, जबकि ऑलराउंडर जेम्स नीशाम और कॉलिन डि ग्रैंडहोम में डेथ ओवरों में ताबड़तोड़ बल्लेबाजी की क्षमता है.
कॉलिन मुनरो की बल्लेबाजी में निरंतरता की कमी है, लेकिन वह गप्टिल के साथ मिलकर किसी भी गेंदबाजी आक्रमण को ध्वस्त करने की क्षमता रखते हैं. गेंदबाजी में बोल्ट और साउथी की अनुभवी जोड़ी नई गेंद से जिम्मेदारी निभाएगी, जबकि लोकी फर्ग्यूसन टीम के तीसरे तेज गेंदबाज हैं.
साउदी के साथ बोल्ट की साझेदारी टीम के लिए अहम होगी, जबकि बीच के ओवरों में मिशेन सैंटनर को अहम भूमिका निभानी होगी. स्पिन की अनुकूल पिच पर सेंटनर को ईश सोढ़ी का साथ मिल सकता है. विकेटकीपर टॉम लाथम की अंगुली में फ्रेक्चर है और टीम को वर्ल्ड कप में अभियान शुरू होने से पहले उनके फिट होने की उम्मीद है.
टीम इस प्रकार है: केन विलियमसन (कप्तान), टॉम ब्लंडेल, ट्रेंट बोल्ट, कॉलिन डि ग्रैंडहोम, लोकी फर्ग्यूसन, मार्टिन गप्टिल, मैट हेनरी, टॉम लाथम, कॉलिन मुनरो, जिमी नीशाम, हेनरी निकोल्स, मिशेल सैंटनर, ईश सोढ़ी, टिम साउदी और रॉस टेलर.