टॉप 10 में से 7 कंपनियों का बाजार पूंजीकरण 1.42 लाख करोड़ रु बढ़ा, रिलांयस को सबसे ज्यादा लाभ

शेयर बाजारों में तेजी से सेंसेक्स की शीर्ष 10 कंपनियों में 7 का बाजार पूंजीकरण पिछले हफ्ते कुल 1.42 लाख करोड़ रुपये बढ़ा.

 SHARE

EMAIL
PRINT
COMMENTS
प्रतीकात्मक फोटो


नई दिल्ली: 

आम चुनावों में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की शानदार जीत के बीच शेयर बाजारों में तेजी से सेंसेक्स की शीर्ष दस कंपनियों में सात का बाजार पूंजीकरण पिछले सप्ताह कुल मिलाकर 1.42 लाख करोड़ रुपये बढ़ा. बृहस्पतिवार को चुनाव परिणामों की घोषणा के दौरान बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स कारोबार के दौरान 40,124.96 अंक के सर्वकालिक उच्चतम स्तर पर पहुंच गया था. भाजपा के चुनाव में 300 से ज्यादा सीटें जीतने के बाद बाजार में तेजी का रुख रहा. शुक्रवार को समाप्त सप्ताह में सेंसेक्स की शीर्ष दस कंपनियों में सात का बाजार पूंजीकरण (एम-कैप) कुल मिलाकर 1,42,468.1 करोड़ रुपये बढ़ा. रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) के बाजार पूंजीकरण में सबसे ज्यादा वृद्धि दर्ज की गई. आरआईएल का एम-कैप 45,069.66 करोड़ रुपये बढ़कर 8,47,385.77 करोड़ रुपये पर पहुंच गया. 
Image result for टॉप 10 में से 7 कंपनियों का बाजार पूंजीकरण 1.42 लाख करोड़ रॠबढ़ा, रिलांयस को सबसे जà¥à¤¯à¤¾à¤¦à¤¾ लाभ
भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) का एम-कैप 31,816.24 करोड़ रुपये की बढ़त के साथ 3,16,466.72 करोड़ रुपये पर पहुंच गया. आईसीआईसीआई बैंक का बाजार पूंजीकरण 26,586.43 करोड़ बढ़कर 2,78,269.34 करोड़ रुपये और एचडीएफसी का एम-कैप 23,024.22 करोड़ रुपये चढ़कर 3,66,235.80 करोड़ रुपये हो गया. कोटक महिंद्रा बैंक का पूंजीकरण 10,157.84 करोड़ रुपये बढ़कर 2,88,981.46 करोड़ रुपये जबकि हिंदुस्तान यूनिलीवर लिमिटेड (एचयूएल) का एम-कैप 2,911.52 करोड़ रुपये बढ़कर 3,78,650.09 करोड़ रुपये और एचडीएफसी बैंक का बाजार पूंजीकरण 2,902.17 करोड़ रुपये बढ़कर 6,46,462.22 करोड़ रुपये पर पहुंच गया. 
Image result for टॉप 10 में से 7 कंपनियों का बाजार पूंजीकरण 1.42 लाख करोड़ रॠबढ़ा, रिलांयस को सबसे जà¥à¤¯à¤¾à¤¦à¤¾ लाभ
हीं, दूसरी ओर टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (टीसीएस) का बाजार पूंजीकरण 17,523.6 करोड़ रुपये गिरकर 7,69,107.53 करोड़ रुपये, आईटीसी का एम-कैप 13,791 करोड़ रुपये फिसलकर 3,55,684.20 करोड़ रुपये और इंफोसिस का पूंजीकरण 6,269.42 करोड़ रुपये गिरकर 3,09,953.84 करोड़ रुपये रह गया. शीर्ष दस कंपनियों की रैंकिंग में रिलायंस इंडस्ट्रीज पहले पायदान पर रही. इसके बाद टीसीएस, एचडीएफसी बैंक, हिंदुस्तान यूनिलीवर, एचडीएफसी, आईटीसी, भारतीय स्टेट बैंक, इंफोसिस, कोटक महिंद्रा बैंक और आईसीआईसीआई का स्थान रहा.