अगर आप ऑनलाइन शॉपिंग कर रहे हैं, तो हो जाएं सावधान

अगर आप भी ऑनलाइन शॉपिंग करना पसंद करते हैं, तो सावधान हो जाइए, क्योंकि आप साइबर अपराधियों के निशाने पर हो सकते हैं. त्योहारों के मौके पर साइबर क्राइम के ऐसे मामले सामने आ रहे हैं, जिनमें साइबर अपराधी इंटरनेट इस्तेमाल करने वालों को अपना निशाना बनाने की फिराक में हैं.

कंप्‍यूटर या स्मार्टफोन की स्क्रीन पर पूरी दुनिया का बाजार सिमट आया है. लोग ऑनलाइन शॉपिंग का जमकर इस्तेमाल कर रहे हैं. हालांकि जो लोग ऑनलाइन शॉपिंग को लेकर पूरी तरह से बेफिक्र हैं, वे सावधान हो जाएं, क्योंकि साइबर अपराधी की नज़र आप पर हो सकती है.
नॉर्टन बाई सीमनटेक के कंट्री मेनेजर रितेश चोपड़ा कहते हैं, ‘अभी दिवाली का टाइम है, हमने कुछ ऐसे केस देखे हैं जहां ईमेल भेजी गई हैं और फेक डोमेन नेम यूज किया गया है, ताकि ग्राहक उस ईमेल को खोलें और उस साइट पर जाएं जहां फेक डोमेन नेम यूज किया गया है.
ये मेल पॉपुलर ब्रांड के नामों से भेजे गए हैं और इन पर 80 फीसदी डिस्काउंट भी दिए गए हैं, ताकि लोग दिवाली पर नई चीजें खरीदें.
ऑनलाइन शॉपिंग का बाजार ही इतना बड़ा है कि साइबर अपराधी इस बाजार में अपने शिकार की फिराक में रहते हैं. एक अनुमान के मुताबिक भारत में ऑनलाइन शॉपिंग का बाजार 4 हजार करोड़ रुपये का हो सकता है.
ऐसोचैम के सेक्रेटरी जनरल डी. एस. रावत कहते हैं, ‘ऑनलाइन शॉपिंग हिंदुस्तान में धीरे-धीरे वेस्टर्न पैटर्न पर आ गई है, इसमें बहुत ज्यादा बढ़त आई है. एक अनुमान के मुताबिक इसमें 20 फीसदी की बढ़ोत्तरी हुई है, कुछ आंकड़ों के मुताबिक यह 4 हजार करोड़ रुपये का बाजार हो गया है.
आजकल ऑनलाइन ऑफर्स की बरसात करने वाले ई-मेल्स का आना आम बात है लेकिन इसमें से कई ई-मेल आपको गलत वेबसाइट की तरफ ले जा सकते हैं. अगर आपने इनमें अपनी जानकारी दे दी तो साइबर अपराधी इसका फायदा उठा सकते हैं. इस तरह के मामलों को स्पियर फिशिंग कहते हैं.
 यूं बचें ऑनलाइन शॉपिंग में धोखा खाने से: 
– अनजान वेबसाइट पर शॉपिंग न करें.
– डिस्काउंट्स के चक्कर में पड़कर किसी स्कैम का शिकार न हों.
– पेमेंट करते हुए सचेत रहें.
– किसी और के मोबाइल फोन से शॉपिंग करना भी खतरनाक हो सकता है.
– अनसेक्योर्ड इंटरनेट कनेक्शन का इस्तेमाल ऑनलाइन पेमेंट या शॉपिंग के लिए न करें.