राष्ट्रपति ने मोदी को नियुक्त किया PM, 30 मई को हो सकता है शपथग्रहण समारोह

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शनिवार को बीजेपी और एनडीए संसदीय दल नेता नरेंद्र मोदी को प्रधानमंत्री नियुक्त करते हुए केंद्र में नई सरकार बनाने का न्यौता दिया. कोविंद ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मंत्रिपरिषद और शपथग्रहण की तिथि पर निर्णय करने के लिए भी कहा. मीडिया में आ रही खबरों के मुताबिक 30 मई (गुरुवार) को मोदी प्रधानमंत्री पद की शपथ ले सकते हैं.

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और इसकी अगुवाई वाली (एनडीए) की ओर से मोदी को सर्वसम्मति से नेता चुने जाने के बाद मोदी सरकार बनाने का दावा पेश करने के लिए राष्ट्रपति भवन गए. मोदी ने बाद में राष्ट्रपति भवन के कैंपस में मीडिया से बात करते हुए कहा कि राष्ट्रपति ने उन्हें प्रधानमंत्री नियुक्त करते हुए नई सरकार का गठन करने का निमंत्रण दिया है.


उन्होंने कहा, ‘‘भारत के लिए विश्व में काफी अवसर हैं, सरकार उनका पूरा इस्तेमाल करने के लिए काम करेगी और एक पल के लिए भी आराम नहीं करेगी.’’

 ने कहा कि वे लोगों को आश्वस्त करना चाहते हैं कि नई सरकार उनकी आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ेगी. राष्ट्रपति भवन की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है कि राष्ट्रपति ने मोदी को देश का नया प्रधानमंत्री नियुक्त किया है.
इस बयान में कहा गया है कि कोविंद ने मोदी से अनुरोध किया कि वह उन्हें उन अन्य सदस्यों के नाम सुझायें जिन्हें केंद्रीय मंत्रिपरिषद के सदस्यों के तौर पर नियुक्त किया जाना है. राष्ट्रपति ने मोदी से साथ ही यह भी कहा कि वह राष्ट्रपति भवन में आयोजित होने वाले शपथग्रहण समारोह की तिथि और समय बताएं.

NDA प्रतिनिधिमंडल ने राष्ट्रपति से की मुलाकात

मोदी से पहले बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के नेतृत्व में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) के एक प्रतिनिधिमंडल ने राष्ट्रपति भवन में राष्ट्रपति से मुलाकात की. इस प्रतिनिधिमंडल में प्रकाश सिंह बादल, राजनाथ सिंह, नीतीश कुमार, रामविलास पासवान, सुषमा स्वराज, उद्धव ठाकरे, नितिन गडकरी, के पलानीसामी, कोनराड संगमा और नेफियू रियो शामिल थे.
प्रतिनिधिमंडल ने राष्ट्रपति को एक पत्र सौंपा जिसमें कहा गया कि नरेंद्र मोदी को बीजेपी संसदीय दल का नेता चुन लिया गया है. इसके साथ ही एनडीए के घटक दलों के समर्थन वाले पत्र भी राष्ट्रपति को सौंपे गए.

गौरतलब है कि निवर्तमान मंत्रिपरिषद के मंत्रियों ने शुक्रवार रात कोविंद को अपना इस्तीफा सौंप दिया था. कोविंद ने मोदी को कार्यवाहक प्रधानमंत्री बने रहने को कहा था. लोकसभा चुनाव में बीजेपी की अगुवाई वाले एनडीए को प्रचंड बहुमत मिला है.