देश के प्रधानमंत्री मोदीजी ने खोला अपने राजनीतिक पिटारे से एक और हिला देने बाला सच

आज की शीर्षक के मुताबिक, सामने किताब खोल कर परीक्षा देंगे यह छात्र। एक अच्छे भविष्य के लिए आजकल के समय में बच्चे यानी विद्यार्थी पढ़ने में काफी ध्यान देते हैं ताकि, उनका फ्यूचर अच्छा हो सके इसलिए वह पढ़ने लिखने में अपना खास तौर पर ध्यान देते हैं और, कुछ ही समय बाद पढ़ लिखकर वह अच्छी नौकरी भी प्राप्त कर लेते हैं और अपना भविष्य बना लेते हैं।



सामने किताब खोलकर परीक्षा देंगे ये छात्र
मोदी सरकार करती है काफी सपोर्ट


आप सभी को पता होगा कि, आजकल के समय में मोदी सरकार जनता के हित के लिए और विद्यार्थियों के अच्छे भविष्य के लिए रोजाना ऐसे कई निकालते हैं। जिनसे छात्रो को फायदा पहुंचता है और, ज्ञान हासिल करने के लिए आज का दिन में प्राइवेट स्कूल है। लेकिन वहां काफी ज्यादा फीस देनी पड़ती है इसी वजह से मोदी सरकार ने सरकारी स्कूल की भी व्यवस्था है प्राइवेट स्कूल से भी अच्छी कर दी है।
खबर का हाल अब विस्तार में



आपको जानकर खुशी होगी कि अगर आप भी इंजीनियरिंग और मैनेजमेंट की परीक्षा दे रहे हैं तो, आपके लिए भी एक नया नियम लागू हुआ है। केंद्र सरकार ने अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद को परीक्षा सुधार नीति के तहत मंजूरी दे दी है. ऐसा करने से विद्यार्थियों को परखा जाएगा और उन्हें रोजगार से भी जोड़ा जाएगा अब तक इन परीक्षाओं में तकरीबन 95% सवाल रटे्ट वाले होते थे।
लेकिन नए परीक्षा प्रारूप में प्रयोग विश्लेषण मूल्यांकन और शोध पर जोर रखा जाएगा यानी अब अभ्यास और नए प्रयोग से ही परीक्षा को पास किया जा सकेगा। ऐसे में इंजीनियरिंग के छात्रों को अब किताब खोल कर अपनी परीक्षा देने की सौगात मिलेगी।