दुनिया में हर किसी के जीवन में समस्याएं अवश्य है और इसी का नाम जिंदगी है कई लोग अपने जीवन की परेशानियों से हार मान कर अपने जीवन का ही अंत करने का निर्णय ले लेते हैं जो जीवन की सबसे बड़ी भूलों में से एक होती है, आज के युवाओं में भी खुदकुशी की वारदातें बहुत ज्यादा हो रही है बहुत बार ऐसा सुनने को मिलता है कि किसी विद्यार्थी ने परीक्षा के दबाव में आकर जहर खा लिया या फिर किसी युवा या युवती ने अपने पसंद के लड़के या लड़की से शादी ना होने की वजह से जहर खा लिया और अपने जीवन का अंत कर दिया ।

l

पर जहर खाकर जीवन का अंत करना कोई हल नहीं है क्योंकि समझदार व्यक्ति वही है जो अपने जीवन की परेशानियों से लड़ कर उसे हराए पर यदि कोई व्यक्ति जहर खा लेता है तो उसे अस्पताल ले जाना बहुत ही जरूरी हो जाता है पर कई बार अस्पताल लंबी दूरी में होते हैं और वहां तक पहुंचते-पहुंचते मरीज की जान भी अक्सर चली जाती है पर यदि आप घर के कुछ प्राथमिक उपचार अपनाएं तो उस व्यक्ति को कुछ समय तक ज्यादा जिंदा रखा जा सकता है और उसकी जान बचाई जा सकती है तो चलिए जानते हैं कि क्या है वह उपाय ।


जहर खाए हुए मरीज को तुरंत दें यह घरेलू उपचार
1) यदि कोई व्यक्ति जहर खा ले तो उसे उल्टी करानी बहुत जरूरी होती है ताकि उल्टी के साथ उस व्यक्ति के पेट में जहर है वह बाहर आ जाए और उसके लिए आपको करना यह है कि आप थोड़ी सी राई लेकर उसे पीस ले और पीसी हुई राई को पानी में मिलाकर अच्छी तरह घोल बना दे और एक एक चम्मच करके उस मरीज को पिलाएं 5 मिनट के बाद वह व्यक्ति उल्टी कर देगा और पेट में मौजूद जहर उल्टी के द्वारा बाहर आ जाएगा ।


2) उल्टी कराने का एक और उपचार बहुत ही कारगर है जिसमें आपको 2 गिलास पानी में लगभग एक मुट्ठी नमक मिलाना है और उसे अच्छी तरह घोलकर उस व्यक्ति को पिला देना है ज्यादा नमक वाले पानी के कारण वह व्यक्ति उल्टी कर देगा और उल्टी के द्वारा पेट में जमा जहर भी बाहर आ जाएगा और इस प्रकार उस व्यक्ति जान बचाने के लिए आपको ज्यादा समय मिल जाएगा और वह ज़िंदा अस्पताल पहुंच पाएगा ।