हनुमानजी की पूजा कलयुग में सबसे ज्यादा फलदायी मानी गई है यानी कि यदि हनुमानजी की पूजा हम करे तो उसका जो फल होता है वह हमें बहुत जल्दी प्राप्त होता है। इन्हें भगवान श्रीराम और माता सीता द्वारा यह वरदान प्राप्त था कि यह कलयुग में जीवन जीवित रहकर यानी कि अमर रहकर जो भी भक्त इन को याद करेगा उसकी हर समस्याएं और दुख हरेंगे।

हनुमानजी संकटमोचक देवता हैं यानी की जो भी भक्त यदि किसी परेशानी में या किसी विधा में पीड़ित होता है तो हनुमानजी तुरंत उसकी हर मुसीबत से उसकी रक्षा करने के लिए आ जाते हैं। हनुमानजी की उपासना न केवल तन व मन को मजबूत बनाने वाली होती है बल्कि पैसों से संबंधित आपकी कोई परेशानी है जैसे नौकरी से संबंधित परेशानी है।


मंगलवार का दिन होता है वह हनुमान जी को समर्पित है और मंगलवार का नाम ही मंगल से आरंभ होता है। यानी की इस दिन आपका मंगल ही मंगल होगा यदि आप हनुमानजी की विशेष पूजा करते हैं। यदि आप चाहते हैं की हनुमान जी आपकी हर परेशानी को दूर करे तो जो भी भक्त सच्चे मन से मंगलवार के दिन हनुमानजी के मंदिर जाकर यह शब्द बोल देता है तो हनुमान जी उसके सारे कष्ट हर लेते है।


आपको हर मंगलवार को हनुमान जी को प्रसन्न करने के लिए शाम के समय सरसों के तेल का दीपक जलाते हुए अपनी परेशानियां इस तरह व्यक्त करनी है-