मांस से भी कई गुना ताकतवर है ये चीज, शरीर में नहीं जमने देता खून का थक्का

भोपाल। इस बात को हर कोई जानता है कि बीन्स एक ऐसी सब्जी है जिसका प्रयोग हर टाइप के भोजन में किया जाता है। ये सलाद से लेकर चाइनीज तक हर प्रकार के खाने में इसे आसानी से प्रयोग किया जाता है। शहर की डॉयटीशियन सुगंधा बजाज बताती है कि यह सेहत से भरा एक पौष्टिक वि‍कल्प भी है। वे बताती है कि बीन्स में पर्याप्त मात्रा में विटामिन ए, सी, के और बी 6 पाया जाता है। साथ ही साथ ये फॉलिक एसिड का भी एक अच्छा स्त्रोत माने जाते हैं। बीन्स में आयरन, मैगनीज, बीटा कैरोटीन, कैल्श‍ियम, सिलिकॉन, पोटैशियम और कॉपर की भी मात्रा पाई जाती है। बीन्स को सब्जी के रुप में खाने से कई बीमारियों से छुटकारा मिलता है। जानिए बीन्स खाने के फायदें….
vegetarian
नहीं जमने देगा खून का थक्का
बीन्स दिल के लिए भी काफी फायदेमंद होते हैं। इसका कारण ये है कि इसमें फ्लेवेनॉएड्स की मौजूदगी होती है। रोज इसका सेवन करने से दिल से जुड़ी बीमारियों के होने का खतरा कम हो जाता है। साथ ही साथ ये खून का थक्का भी नहीं जमने देता है।
इम्यून सिस्टम को रखें बेहतर
हरी बीन्स में पर्याप्त मात्रा में एंटी-ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं जिससे इम्यून सिस्टम बेहतर बनता है। ये कोशिकाओं की क्षति को ठीक करके नई कोशिकाओं के बनने को प्रोत्साहित करता है।
vegetarian
आंखों के तनाव को करे कम
बीन्स का सेवन करने से आंखों के अंदरुनी हिस्से के तनाव को कम किया जा सकता है। हरी बीन्स में कैरोटीनॉएड्स मौजूद होते हैं। ये आंखों की रोशनी को बेहतर करते हैं।
डायबिटीज में फयदेमंद
अगर आप डायबिटीज के मरीज है तो आपको बीन्स रोज खानी चाहिए। बीन्स में पर्याप्त मात्रा में डायट्री फाइबर्स और कार्बोहाइड्रेट्स पाए जाते हैं। इसीलिए डॉयबिटीज के मरीज को बीन्स की सब्जी जरुर खानी चाहिए।
vegetarian
IMAGE CREDIT:
कैंसर से बचाव
बीन्स के सेवन करने से कोलोन कैंसर का खतरा कम हो जाता है। साथ ही साथ बीन्स के नियमित सेवन से पेट भी स्वस्थ रहता है। इनके सेवन से पाचन संबंधी समस्याएं होने का खतरा कम हो जाता है और गैस, कब्ज और मरोड़ की परेशानी नहीं होती है।
कमजोर हड्डियों को करें मजबूत
अगर आपकी हडडियां कमजोर है तो आपको रोज बीन्स खाना चाहिए। ऐसा इसलिए क्योंकि बीन्स में कैल्शियम पाया जाता है। इसके अलावा इसमें मौजूद विटामिन ए, के और सिलिकॉन भी हड्ड‍ियों के लिए फायदेमंद होते हैं। इन पोषक तत्वों की कमी होने पर हड्ड‍ियां कमजोर हो जाती हैं।
ये खबर केवल जानकारी के लिए है। बाकि डॉक्टर से संपर्क करने के बाद ही किसी बीमारी का इलाज करवायें।