बदायूं : पिछले लोकसभा चुनाव में चली मोदी लहर में बदायूं में सपा का किला बच गया था, लेकिन इस बार चली मोदी की सुनामी में सपा का किला ध्वस्त हो गया। 1991 के बाद यहां जीत के लिए तरस रही भाजपा ने बदायूं की सीट पर कब्जा जमा लिया। कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य की बेटी भाजपा की डॉ.संघमित्रा मौर्य ने 511228 वोट प्राप्त कर सपा के धर्मेंद्र यादव को 18584 मतों से पराजित कर दिया। धर्मेंद्र यादव को 492644 वोट मिले।
वहीं बदायूं सीट से पांच बार सांसद रहे कांग्रेस के सलीम इकबाल शेरवानी अपनी जमानत भी नहीं बचा सके। उन्हें 51942 मतों से ही मिल सके। मतगणना के बाद मंडी समिति से लेकर भाजपा कार्यालय तक जश्न मनाया गया।
गुरुवार को सुबह मतगणना शुरू हुई तो पहले चक्र की गणना से ही भाजपा ने बढ़त बना ली। दूसरे चक्र की मतगणना में जरूर बढ़त बनाई थी, लेकिन उसके बाद भाजपा आगे बढ़ती चली गई। वोटों की गिनती के दौरान हर चक्र में भाजपा की बढ़त से सपा खेमे में बेचैनी तो साफ झलक रही थी मगर धर्मेंद्र यादव कार्यकर्ताओं के साथ देर शाम मतगणना पूरी होने तक जमे रहे। ईवीएम से मतगणना दोपहर तक पूरा होने की उम्मीद जताई जा रही थी, लेकिन रात नौ बजे तक प्रक्रिया पूरी नहीं हो सकी थी। देर रात 11 बजे के बाद जिला निर्वाचन अधिकारी दिनेश कुमार सिंह ने डॉ.संघमित्रा को प्रमाण पत्र दिया। मतगणना पूरी होने के बाद ही धर्मेंद्र यादव निकल गए, उन्होंने जिला प्रशासन पर बिल्सी विधानसभा क्षेत्र में उपलब्ध कराए गए वोटों के मुकाबले गिनती अधिक वोटों की किए जाने का आरोप लगाते हुए जिला निर्वाचन अधिकारी से शिकायत दर्ज कराई, लेकिन हार के कारणों की समीक्षा करने की बात कहकर चले गए। कांग्रेस के सलीम शेरवानी को अपने प्रदर्शन का शायद पहले ही अंदाजा लग गया था, इसलिए वह मतगणना में नहीं पहुंचे। उनके मतगणना एजेंट जरूर पसीना बहाते रहे। परिणाम की घोषणा से पहले ही जीत का अंदाजा लगते ही भाजपाई जश्न मनाने लगे। भाजपा कार्यालय पर कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने भी स्थानीय विधायकों और पदाधिकारियों के साथ खुशी मनाते दिखाई दिए। छोटे दलों और निर्दलीय प्रत्याशी कहीं नजर नहीं आए।
किसको कितने मिले वोट
1- भाजपा : डॉ.संघमित्रा मौर्य : 511228 जीतीं
2- सपा : धर्मेंद्र यादव : 492644
3- कांग्रेस : सलीम इकबाल शेरवानी : 51942
4- कैलाश कुमार मिश्र : 4343
5- महेश श्रीवास्तव : 1335
6- अतुल कुमार : 1680
7- कृपाशंकर शाक्य : 2216
8- स्वामी पगलानंद : 4083
9- हरी सिंह : 2633