कहते है अशुभ ग्रहों से भी ज्यादा अशुभ होते हैं मारक ग्रह, जाने क्या होता है इसका असर

नमस्कार दोस्तों, कहते है अशुभ ग्रहों से भी ज्यादा अशुभ होते हैं मारक ग्रह, जाने क्या होता है इसका असर…हर मनुष्य की कुंडली में तीन तरह के ग्रह होते हैं शुभ, अशुभ और सामान्य वही अशुभ ग्रहों में दो तरह के ग्रह होते हैं वही एक जो नुकसान करते हैं और एक जो मारक होते हैं। वही मारक ग्रह व्यक्ति की कुंडली में समस्या और संघर्ष पैदा कर देते हैं। वही इन ग्रहों की दशा में मनुष्य की या तो मृत्यु हो जाती हैं या फिर मृत्युतुल्य कष्ट होता हैं। वही हर लग्न के लिए अलग अलग ग्रह मारक होते हैं। वही इनकी दशाओं में अगर मनुष्य सावधानी नहीं रखता हैं तो इसके परिणाम अशुभ और गंभीर होते हैं।

वही सूर्य की मारक दशा होने पर आपको नित्य प्रात सूर्य को जल अर्पित करें। वही आदित्य ह्रदय स्तोत्र का पाठ करें। रविवार को गुड़ और गेंहू का दान कर सकते हैं यह शुभ माना जाता हैं वही रविवार के दिन नमक का सेवन भूलकर भी न करें। वही रोजाना शाम के वक्त महामृत्युंजय मंत्र का 108 बार जाप अवश्य ही करें। वही चन्द्रमा की मारक दशा होने पर सोमवार के दिन व्रत रखें और सोमवार को चावल, चीनी या फिर दूध का दान अवश्य करें। वही “नमः शिवाय” का प्रात और सायं 108 बार जाप अवश्य ही करें। वही काले रंग के कपड़ों से परहेज करना चाहिए।

वही मंगल की मारक दशा होने पर, मंगलवार का व्रत रखें। मंगलवार को हनुमान जी को सिंदूर चढ़ाएं। वही नित्य प्रात और सायं राम रक्षा स्तोत्र का पाठ करना शुभ होगा। वही रात्रि में सोने से पहले महामृत्युंजय मंत्र का जाप करना चाहिए। बुध की मारक दशा होने पर भगवान गणेश की पूजा अर्चना करना शुभ होता हैं। वही बुधवार को हरी वस्तुओं का दान करें। “ॐ ब्रां ब्रीं ब्रौं सः बुधाय नमः” का 108 बार जाप करें।